Friday, July 13, 2012

और फिर बुद्ध

और फिर बुद्ध
अपने भीतर समूचा जंगल लिए
शहर में लौट आये

-अहर्निशसागर -

No comments:

Post a Comment